Wednesday, December 26, 2007

हाथ मत जला लेना।

निवेश करे, पर ध्यान से।
जो छोटी कंपनिया आचानक उछाल मार कर आपका ध्यान बता रही है। उनमें निवेश करने से पहले पूरी जांच कर ले। उनके संचालको के बारे मैं , पिच्च्ले कार्य निष्पादन के बारे मैं पता कर के ही निवेश करे। वर्ना इस बात कि पूरी सम्भावना है कि आप आपने हाथ जला बठेंगे। जो कि मेरे साथ हो चूका है।

1 comment:

अनुनाद सिंह said...

नवीन, आपका हिन्दी ब्लाग-जगत में स्वागत है !

यह बहुत अच्छा लगा कि आप हिन्दी में बाजार पर नजर रखने के लिये यह चिट्ठा आरम्भ कर रहे हैं। इससे विषय आधारित एक और विशिष्ट चिट्ठा जुड़ गया है। इसी प्रकार के अनेक चिट्ठों के आने से हिन्दी में भी विविधता और विशिष्टता (स्पेसलाइजेशन) आयेगा।

लिखते रहिये! हिन्दी के ब्लाग एग्रीगेटरों , जैसे नारद (http://narad.akshargram.com/) आदि पर इसका रजिस्ट्रेशन भी करा लें। इससे और पाठक यहाँ आयेगे।

इस बात का भी ध्यान रखें कि अधिक से अधिक कोसिश करके हिन्दी में ही सामग्री दें; अंग्रेजी में तो बहुत कुछ उपलब्ध है।